एक झलक अपने प्यार का - मेरी स्कूल की यादें
एक झलक अपने प्यार का - मेरी स्कूल की यादें

तेरे चेहरे का नूर और रेशमी बालों का लहराना
वह भूरी भूरी आंखें और आंखों पर चश्मा लगाना ।
ब्लैकबोर्ड पर हर रोज तेरे लिए कुछ लिख जाना
याद आ रहा है तेरा हर पल मुस्कुराना ।।


तेरे चेहरे की खामोशी और मेरे दिल का घबराना
सुबह की पीटी में सिर्फ तुमको देखने के लिए जाना ।
और जब भी तुझ से बात करने की कोशिश की
तो तेरे एटीट्यूड का दिखाना
याद आ रहा है तेरा पल पल सताना ।।


मेस की बेल बजने पर सबसे पहले तुझे देखने के लिए आना
और तुझे देखकर दूर से ही मुस्कुराना ।
वो क्लास में ECO और ACCOUNT का फेयरवेल मनाना
याद आ रहा है मुझे वह कहानी सुनाना ।।


अरावली की टी-शर्ट पहन के तेरा आना
ग्राउंड में खड़े होकर दूर से ही तुझे प्यार जताना ।
हर पल ढूंढते थे तुझसे बात करने का बहाना
याद आ रहा है मेरा वह बचपाना ।।


वह क्लास रूम में तेरा मुझसे गुस्सा हो जाना
उसके बाद भूरी भूरी आंखों से पानी की बूंदें गिराना ।
वह मेरे प्रति हमेशा तेरा नाराजगी जताना
याद आ रहा है मुझे वह गुजरा जमाना ।।


बोर्ड के पेपर के लिए एक साथ बस में जाना
देवस्थली के गेट पर वह फोटो खींचाना ।
लास्ट दिन बाय बोलने पर भी तेरा गुस्सा जताना
बहुत याद आता है वह तेरा रूठ के जाना ।।