Advertisement

एक झलक अपने प्यार का - मेरी स्कूल की यादें

एक झलक अपने प्यार का - मेरी स्कूल की यादें
एक झलक अपने प्यार का - मेरी स्कूल की यादें

तेरे चेहरे का नूर और रेशमी बालों का लहराना
वह भूरी भूरी आंखें और आंखों पर चश्मा लगाना ।
ब्लैकबोर्ड पर हर रोज तेरे लिए कुछ लिख जाना
याद आ रहा है तेरा हर पल मुस्कुराना ।।


तेरे चेहरे की खामोशी और मेरे दिल का घबराना
सुबह की पीटी में सिर्फ तुमको देखने के लिए जाना ।
और जब भी तुझ से बात करने की कोशिश की
तो तेरे एटीट्यूड का दिखाना
याद आ रहा है तेरा पल पल सताना ।।


मेस की बेल बजने पर सबसे पहले तुझे देखने के लिए आना
और तुझे देखकर दूर से ही मुस्कुराना ।
वो क्लास में ECO और ACCOUNT का फेयरवेल मनाना
याद आ रहा है मुझे वह कहानी सुनाना ।।


अरावली की टी-शर्ट पहन के तेरा आना
ग्राउंड में खड़े होकर दूर से ही तुझे प्यार जताना ।
हर पल ढूंढते थे तुझसे बात करने का बहाना
याद आ रहा है मेरा वह बचपाना ।।


वह क्लास रूम में तेरा मुझसे गुस्सा हो जाना
उसके बाद भूरी भूरी आंखों से पानी की बूंदें गिराना ।
वह मेरे प्रति हमेशा तेरा नाराजगी जताना
याद आ रहा है मुझे वह गुजरा जमाना ।।


बोर्ड के पेपर के लिए एक साथ बस में जाना
देवस्थली के गेट पर वह फोटो खींचाना ।
लास्ट दिन बाय बोलने पर भी तेरा गुस्सा जताना
बहुत याद आता है वह तेरा रूठ के जाना ।।

Post a Comment

7 Comments

  1. It is fully based on your life Ravi.
    So experience bol Raha hai poem😁😀

    ReplyDelete
  2. Aaj ke jamane me.....
    Wo pahale jamane wala pyarr.. .jo kewal dil se hota hai.... Kewal तुम्हारे me नजर aaya bhai

    ReplyDelete
  3. Aaj ke jamane me.. ..
    Wo pahale jamane wala pyarr. .
    Jo kewal dil se hota hai.. .
    Pahli bar tumhare me Dekhane ko mila bhai

    ReplyDelete

h